X Close
X
7080804000

पेट्रोल डीजल के मूल्य में बढ़ोत्तरी करके जनता को लूट रही है मोदी सरकार-आशीष सिंह


WhatsApp-Image-2020-06-29-at-7.58.15-PM.jpeg
Lucknow:   संवाददाता गोपाल द्विवेदी रीडर टाइम्स न्यूज़ हरदोई : मोदी सरकार द्वारा पेट्रोल डीजल के मूल्यों में अभूतपूर्व बढ़ोतरी को वापस लिए जाने की मांग को लेकर जिला एवं शहर कांग्रेस कमेटी हरदोई ने कलेक्ट्रेट में प्रदर्शन कर जिला प्रशासन के माध्यम से महामहिम राष्ट्रपति को संबोधित ज्ञापन प्रेषित किया।महामहिम राष्ट्रपति महोदय को प्रेषित किए ज्ञापन में कहा गया है कि मोदी सरकार द्वारा भारत के नागरिकों से की जा रही जबरन वसूली एकदम स्पष्ट परिलिक्षित हो रही है। मांग की कि मई 2014 में (जब भाजपा ने सत्ता संभाली थी) पेट्रोल पर उत्पाद शुल्क ₹9.20 पैसे प्रति लीटर एवं डीजल पर ₹3.46 पैसे प्रति लीटर था ।पिछले 6 सालों में केंद्र की भाजपा सरकार ने पेट्रोल पर उत्पाद शुल्क में ₹23.78 पैसे प्रति लीटर एवं डीजल पर ₹28.37 प्रतिशत प्रति लीटर की अतिरिक्त बढ़ोतरी कर दी है। चौंकाने वाली बात है कि पिछले 6 सालों में भाजपा सरकार द्वारा डीजल के उत्पाद शुल्क में 820 प्रतिशत और पेट्रोल के उत्पाद शुल्क में 258 प्रतिशत की वृद्धि की गई है।केवल पेट्रोल और डीजल पर लगने वाले उत्पाद शुल्क में बार बार वृद्धि करके मोदी सरकार ने पिछले 6 सालों में 1800000 करोड रुपए कमा लिए।तीन माह पहले लॉकडाउन लगा जाने के बाद पेट्रोल व डीजल पर उत्पाद शुल्क को बार-बार बढ़ा कर तो मुनाफाखोरी और जबरन वसूली की सभी हदें पार कर दी गई।मार्च 2020 को पेट्रोल व डीजल के मूल्य में ₹3 प्रति लीटर की बढ़ोतरी की गई। 5 मई 2020 को मोदी सरकार ने डीजल पर लगने वाले उत्पाद शुल्क में ₹13 प्रति लीटर और पेट्रोल पर लगने वाले उत्पाद शुल्क में ₹10 प्रति लीटर की बढ़ोतरी की।7 जून 2020 से लेकर 24 जून 2020 तक जन विरोधी मोदी सरकार ने 18 दिनों तक पेट्रोल व डीजल के मूल्य लगातार बढ़ाएं जिससे डीजल का मूल्य ₹10.48 पैसे प्रति लीटर एवं पेट्रोल का मूल्य ₹8.50 पैसे प्रति लीटर बढ़ गया।पिछले साढे तीन महीनों में भाजपा सरकार में डीजल पर मूल्य और उत्पाद शुल्क ₹26.48 पैसे प्रति लीटर और पेट्रोल पर ₹21.50 पैसे प्रति लीटर बढ़ा दिया। 24 जून 2020 को कच्चे तेल का अंतरराष्ट्रीय भाव 43.41 अमेरिकी डालर प्रति बैरल था।जो डॉलर और रुपए भाव के अनुसार ₹3288.71 प्रति बैरल बनता है। 1 बैरल में 159 लीटर होते हैं।इसीलिए 24 जून 2020 को कच्चे तेल का प्रति लीटर भाव ₹20.68 बनता है।इसके विपरीत पेट्रोल डीजल के मूल्य आसमान छू कर ₹80 प्रति लीटर पहुंच गए हैं।जिससे साबित होता है कि मोदी सरकार भारत के भोले भाले नागरिकों की जेब पर डाका डालकर उन्हें लूट रही है। इस बात पर भी ध्यान दिया जाने योग्य है कि जब कांग्रेस की यूपीए सरकार केंद्र में सत्तासीन थी तो कच्चे तेल का दाम 108 अमेरिकी डालर प्रति बैरल था। जो 24 जून 2020 को गिरकर 43.41 अमेरिकी डालर प्रति बैरल हो गया है।यानी इसके मूल्यों में लगभग 60 प्रतिशत की गिरावट हुई है।इसके बावजूद भाजपा सरकार ने पेट्रोल डीजल के दाम आसमान पर पहुंचा दिए हैं।इसलिए जिला एवं शहर कांग्रेस कमेटी हरदोइ की माँग है कि 5 मार्च 2020 के बाद पेट्रोल डीजल के दामों एवं उत्पाद शुल्क में की गई सभी बढ़ोतरी को तत्काल वापस लिए जाने का निर्देश दें। इस अवसर पर जिलाध्यक्ष आशीष कुमार सिंह, जमील अहमद अंसारी के साथ अनुपम दीक्षित, दीपेंद्र सिंह, निर्भान सिंह यादव, शशिबाला वर्मा,अकील खान,रूपलाल कोरी,दिनेश राठौर,डॉ चंद्रपाल सिंह, शशिकांत तिवारी, मंजू मित्रा, डॉ अजीमुश्शान, एजाज अहमद उपस्थित रहे।